UP में अब 8 जिलों को मिलाकर बनाया जाएगा ये नया शहर, मिलेगी ये सुविधाएं
Meri Kahania

UP में अब 8 जिलों को मिलाकर बनाया जाएगा ये नया शहर, मिलेगी ये सुविधाएं

UP News: यूपी में दो प्रमुख शहरों में बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए सरकार ने लोगों के बड़ी खुशखबरी दी है. यूपी सरकार ने एक फैसला लिया है कि यूपी में अब 8 जिलों को मिलाकर एक बड़ा नया शहर बनाया जाएगा. इन 8 गावों के लोगों को ये बड़ी सुविधाएं मिलेगी तो आइए जानते है इन शहरो में शामिल होने वाले जिलों के नाम... 
 
UP में अब 8 जिलों को मिलाकर बनाया जाएगा ये नया शहर
Meri Kahani, New Delhi : देश की राजधानी दिल्ली में बने एनसीआर (NCR) की तरह अब उत्तर प्रदेश में भी बनेगा एससीआर (SCR) यानी राज्य राजधानी क्षेत्र.

प्रदेश की राजधानी लखनऊ और औद्योगिक नगरी कानपुर का विस्तार करके राज्य राजधानी क्षेत्र बनाने के प्लान पर काम किया जा रहा है. इसमें प्रदेश के आठ जिले शामिल होंगे.

यह प्रस्ताव प्रदेश के इन दोनों प्रमुख शहरों पर बढ़ते जनसंख्या के बोझ को देखते हुए तैयार किया गया है. लखनऊ और कानपुर दोनों ऐसे जिले हैं जो उत्तर प्रदेश के बीचों बीच बसे हैं.

दूसरे शहरों के मुकाबले ये ज्यादा विकसित हैं. यहां सुविधाएं और अवसर भी अधिक हैं. लिहाजा प्रदेश के अधिकतम लोग इन दो शहरों में रहना चाहते हैं.

ऐसे में अधिक से अधिक लोगों की जरूरत पूरी हो सके-इसके लिए राज्य सरकार पूरे इलाके को एनसीआर जैसा बनाना चाहती है.

एससीआर बनाने की जरूरत क्यों पड़ी?

इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित एक रिपोर्ट में प्रदेश के शहर और शहरी नियोजन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि “हाल के सालों में ऐसा देेखा जा रहा है कि

इन दो शहरों पर बढ़ती निर्भरता के चलते प्रदेश के मध्य क्षेत्र का शहरी विकास ठीक से नहीं हो पा रहा है.” “जब निवेश की बात आती है तो लखनऊ-कानपुर कॉरिडोर अधिक ध्यान खींचता है.

ऐसे में निर्णय ये लिया गया है कि इन दोनों शहरों के आसपास बसे छोटे-छोटे शहरों को शामिल करके एक राज्य राजधानी क्षेत्र (एससीआर) का विकास किया जाये. इससे पूरे क्षेत्र का समग्र और संतुलित विकास होगा.”

योजना में आठ जिले होंगे शामिल-

राज्य की राजधानी लखनऊ की बात करें तो यह 2,528 वर्ग किमी में फैली हुई है. 2011 की जनगणना के अनुसार करीब 46 लाख आबादी है. वहीं कानपुर नगर 3155 वर्ग किमी में फैला हुआ है.

जबकि हरदोई जैसे पड़ोसी जिलों का क्षेत्रफल 5,986 वर्ग किमी से दोगुना है और आबादी करीब 40 लाख है. वहीं 5,742 वर्ग किलोमीटर में फैले सीतापुर की आबादी करीब 44.83 लाख है.

प्रस्तावित राज्य राजधानी क्षेत्र (SCR) लखनऊ और कानपुर नगर सहित आठ जिलों को कवर करेगा, जो 34,000 वर्ग किलोमीटर में फैला होगा

और इसकी कुल आबादी 3 करोड़ होगी. प्रस्तावित एससीआर में अन्य छह जिले हरदोई, सीतापुर, उन्नाव, बाराबंकी, रायबरेली और कानपुर देहात हैं.

कब तक पूरी होगी योजना?

यूपी सरकार इस परियोजना को साल 2047 तक पूरा कर लेना चाहती है. सरकार चाहती है आर्थिक गतिविधियों और जनसंख्या विस्तार में संतुलन के साथ

SCR के शहरीकरण का एक समुचित ढांचा बने. यूपी सरकार इसके लिए एक ग्लोबल टेंडर भी जारी करने की योजना बना रही है.

पूरे क्षेत्र के बुनियादी ढांचे के विकास के लिए सलाहकार नियुक्त किये जाएंगे. इसके लिए प्रस्तावित क्षेत्र का एक मानचित्र तैयार किया जाएगा.

जानकारी के मुताबिक ब्लूप्रिंट में शैक्षिक, चिकित्सा, स्वास्थ्य ढांचा, पुरातात्विक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक के अलावा धार्मिक और पर्यटन शामिल होंगे.

WhatsApp Group Join Now