7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में 44 फीसदी का इजाफा
Meri Kahania

7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में 44 फीसदी का इजाफा

केंद्रीय कर्मचारियों को महंगाई से राहत देने के लिए बीते महीने महंगाई भत्ते में बढ़ोत्तरी का ऐलान किया गया था, जिसके बाद सैलरी में बढ़ोत्तरी हुई.
 
7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में 44 फीसदी का इजाफा

Meri Kahania, New Delhi:  अब केंद्रीय कर्मचारियों को इस बात का इंतजार है कि कब 8वां वेतन आयोग लागू होगा और कब फिटमेंट फैक्टर बढ़ेगा. यदि दोनों को मंजूरी मिल जाती है तो केंद्रीय कर्मचारियों के वेतन में जबरदस्त तरीके से 44 फीसदी तक बढ़ोत्तरी हो सकती है.

केंद्रीय कर्मचारी वर्तमान में 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार वेतन और भत्ते पा रहे हैं, जिसे करीब 9 साल पहले वर्ष 2014 में लागू किया गया था. वहीं, अब केंद्रीय कर्मचारी 8वां वेतन आयोग के गठन को लेकर मांग कर रहे हैं.

इसको लेकर तेलंगाना में कर्मचारियों ने प्रदर्शन भी किया है. हालांकि, केंद्र सरकार का अभी 8वां वेतन आयोग पर कोई स्पष्ट रुख नहीं है. हालांकि, संभावना जताई जा रही है कि 2024 लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र सरकार 8वां वेतन आयोग का गठन कर सकती है और इसे 2025-26 तक लागू किया जा सकता है.

फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोत्तरी से बदल जाएगा सैलरी स्ट्रक्चर-
केंद्र सरकार 8वां वेतन आयोग लागू करेगी तो फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोत्तरी होगी. केंद्रीय कर्मचारियों को मिलने वाली सैलरी में फिटमेंट फैक्टर का बड़ी अहम भूमिका होती है. ये कर्मचारी के भत्तों के अलावा उनकी बेसिक सैलरी फिटमेंट फैक्टर आधार पर तय की जाती है.

2014 में 7वां वेतन आयोग लागू होने बाद साल 2016 से फिटमेंट फैक्टर में बदलाव किया गया था. तब से 2.57 फीसदी फिटमेंट फैक्टर लागू है. केंद्रीय कर्मचारी फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. कर्मचारी चाहते हैं कि सरकार फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाकर 3.68 फीसदी कर दे.

केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में 44 फीसदी बढ़ोत्तरी हो जाएगी-
8वां वेतन आयोग लागू होने या फिटमेंट फैक्टर के प्रतिशत को बढ़ाए जाने पर केंद्रीय कर्मचारियों की कितनी सैलरी बढ़ेगी, इसको उदाहरण से समझते हैं. वर्तमान में केंद्रीय कर्मचारियों को 2.57 फीसदी फिटमेंट फैक्टर मिल रहा है,

जिसके अनुसार केंद्रीय कर्मचारियों की न्यूनतम बेसिक सैलरी 18,000 रुपये है. यदि फिटमेंट फैक्टर 3.68 फीसदी किया जाता है तो न्यूनतम बेसिक सैलरी 44 फीसदी से अधिक यानी सीधे 8,000 रुपये बढ़कर 26,000 रुपये हो जाएगी.

WhatsApp Group Join Now