Meri Kahania

Bank Of Baroda: अच्छी खबर! इस बैंक में खाता रखने वाले ग्राहकों को बड़ा तोहफा.

अच्छी खबर! इस बैंक में खाता रखने वाले ग्राहकों को बड़ा तोहफा मिला है. बैंक ऑफ बड़ौदा में खाता रखने वाले ग्राहकों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। क्योंकि उनके लिए एक ऐसा सिस्टम लॉन्च किया गया है जो ग्राहकों के लिए काफी फायदेमंद है.
 | 
BOB bank

Meri Kahania, New Delhi: अगर आप भी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ बड़ौदा के ग्राहक हैं तो नई व्यवस्था के बारे में सुनकर आप भी बेहद खुश होंगे.

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम चर्चा करेंगे कि बैंक ऑफ बड़ौदा के ग्राहकों के लिए कौन सा सिस्टम कब लॉन्च किया गया है। यह सब जानने के लिए आपको इसे शुरू से अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा।

बैंक ऑफ बड़ौदा के ग्राहकों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है, दरअसल बैंक ऑफ बड़ौदा ने शनिवार को अपने ग्राहकों के लिए डिजिटल रुपया ऐप पर CBDC UPI QR इंटरऑपरेबिलिटी फ़ंक्शन शुरू किया। दिया गया है।

इस ऐप का इस्तेमाल ग्राहकों और दुकानदारों के लिए बहुत अच्छा है। बैंक द्वारा शुरू की गई इस सेवा के जरिए ग्राहकों और दुकानदारों के बीच बिना किसी रुकावट के लेनदेन किया जा सकेगा. अब ग्राहक मर्चेंट आउटलेट पर किसी भी यूपीआई क्यूआर को स्कैन करके लेनदेन कर सकते हैं

यानी वे लेनदेन के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा डिजिटल रुपया ऐप का उपयोग कर सकेंगे। इस ऐप के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि दुकानदार अब सीबीडीसी व्यापारी के रूप में शामिल हुए बिना अपने मौजूदा टैक्स कोड से भुगतान स्वीकृति टर्मिनल का उपयोग करके अपने ग्राहकों से डिजिटल रुपया भुगतान प्राप्त कर सकते हैं।

बैंक ऑफ बड़ौदा के कार्यकारी निदेशक जयदीप दंत राय ने कहा, डीबीडीसी यूपीआई क्यूआर इंटरऑपरेबिलिटी ग्राहकों के बीच पैसे को अपनाने में तेजी लाएगी।

और बीच में व्यापारियों को शामिल किया जाएगा यानी व्यापारियों के बीच डिजिटल रुपए के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाएगा. डिजिटल रुपये के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए व्यापक भुगतान स्वीकृति बुनियादी ढांचा प्रदान किया जाएगा।

ग्राहक अब बहुत आसान तरीके से किसी भी यूपीआई टैक्स कोड पर भुगतान करने के लिए अपने रुपया वॉलेट को स्कैन कर सकते हैं। और इसी तरह व्यापारियों को भी अपना मौजूदा टैक्स कोड ही दिखाना होगा.

इसके अलावा जो लोग सीडीबीसी और यूपीआई दोनों तरीकों से भुगतान करेंगे, उनका भुगतान दोनों तरीकों से स्वीकार किया जाएगा।

आप सभी की जानकारी के लिए मैं बताना चाहूंगा कि रिजर्व बैंक ने पिछले कई वर्षों से डिजिटल रुपये के उपयोग के लिए एक पायलट परीक्षण भी किया था। इसके लिए सबसे पहले CBDC होलसेल का उपयोग करके परीक्षण किया गया और फिर रिटेल का उपयोग करके भी इसका परीक्षण किया गया।

आप सभी को यह भी पता होना चाहिए कि डिजिटल रुपया नोट और सिक्कों का इलेक्ट्रॉनिक रूप है। और यह ब्लैकचेक तकनीक पर भी आधारित है।

इसके अलावा इसका सबसे अच्छा फायदा यह है कि अब आपको नोट या सिक्कों की बिल्कुल भी जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि ई-मनी का इस्तेमाल आप लेनदेन करने के लिए आसानी से कर सकते हैं लेकिन हां, आपको यह लेनदेन डिजिटल तरीके से ही करना होगा।

Around The Web

Trending News

You May Like

Recommended