सेविंग अकाउंट पर 2,000 रुपये से लेकर 10,000 रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है, जाने डिटेल 
Meri Kahania

सेविंग अकाउंट पर 2,000 रुपये से लेकर 10,000 रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है, जाने डिटेल 

किसी बैंक में सेविंग्स अकाउंट होने एक बहुत आम बात है. अगर किसी को नियमित आय मिलती है तो उसका सैलरी अकाउंट ओपन करवाया जाता है और सेविंग्स अकाउंट की ही तरह काम करता है.
 
सेविंग अकाउंट पर 2,000 रुपये से लेकर 10,000 रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है, जाने डिटेल 

Meri Kahania, New Delhi: इसके अलावा भी ग्राहक खुद से सेविंग्स अकाउंट खुलवा सकते हैं. बचत खाते पर ग्राहकों को थोड़ा-बहुत ब्याज भी दिया जाता है. हालांकि, बचत खाता रखने के लिए मिनिमम बैलेंस मेंटेन करना होता है.

मिनिमम बैलेंस हर बैंक का अलग-अलग हो सकता है. कुछ बैंक इसे 1,000 रुपये रखते हैं तो कुछ 20,000. यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप शहर में रह रहे हैं या किसी ग्रामीण इलाके में.

कई लोगों के लिए सेविंग्स अकाउंट में मिनिमम बैलेंस(Minimum balance in savings account) मेंटेन करना मुश्किल लगता है. लोग कई बार न्यूनतम बैलेंस मेंटेन नहीं कर पाते और उन जुर्माना लग जाता है.

जी हां, सेविंग्स अकाउंट भले ही बेहद सुरक्षित हो लेकिन इनकी एक कमी यह है कि इसमें पैसा रखने के लिए आपको न्यूनतम बैलेंस मेंटेन करना होगा और ऐसा करने में असफल होने पर आपको जुर्माना भरना पड़ेगा.

कितना भरना होता है जुर्माना?

इसके लिए भी अलग-अलग बैंकों के अलग-अलग चार्ज हैं. यह 2,000 से लेकर 10,000 तक हो सकते हैं. पेनल्टी लगना ग्राहकों के लिए एक अलग सिरदर्द बन सकता है.

जहां वे न्यूनतम बैलेंस नहीं रख पा रहे हैं वहां उनसे अतिरिक्त भुगतान करने के लिए कह दिया जाता है. अगर आप इस परेशानी से जूझ रहे हैं तो आप एक तरीके से इस परेशानी का निजात पा सकते हैं.

क्या करें?

सबसे पहले तो आप बैंक खाता ही बंद कर दें. अगर आप मिनिमम बैलेंस नहीं मैंटेन कर पा रहे है तो आप बचत खाता बंद कर दें. यह ध्यान रखें कि उस समय आपके अकाउंट में नेगेटिव में बैलेंस नहीं हो सकता.

इसके बाद आप एक नया खाता खोलें जो जीरो बैलेंस वाला हो. जीरो बैलेंस खाते वह होते हैं जिनमें न्यूनतम बैलेंस रखने की कोई अनिवार्यता नहीं होती है.

अगर आपको उस बैंक में जीरो बैलेंस अकाउंट नहीं मिल रहा है तो दूसरे बैंक में जा सकते हैं. यह याद रखें कि इन खातों में ट्रांजेक्शन फीस ज्यादा हो सकती है.

WhatsApp Group Join Now