Meri Kahania

Post Office में करे छप्परफाड़ इनकम, यहां डिटेल 

पोस्ट ऑफिस के द्वारा काफी सारी सरकारी स्कीम्स चलाई जा रही हैं। इसी में एक शानार स्कीम है,  जिसमें एक बार पैसा जमा करने पर हर महीने गारंटी के साथ में इनकम प्राप्त होती है।
 
Post Office में करे छप्परफाड़ इनकम, यहां डिटेल 

Post Office Scheme:  इस स्कीम का नाम पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम है। पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में सिंगल और ज्वाइंट दोनों ही तरह से खाते ओपन किए जा सकते हैं। इसमें सिर्फ एक बार ही निवेश करना होता है।

इसके बाद 5 सालों की मैच्योरिटी के बाद एक साथ पैसा मिलता है। इसके अलावा इस स्कीम में निवेशकों को 7.4 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है।

कैसे तय होती है मासिक इनकम

पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में आप सिंगल खाते में 9 लाख रुपये और ज्वाइंट खाते में 15 लाख रुपये तक जमा कर सकते हैं। यदि आप चाहें तो 5 सालों की मैच्योरिटी के बाद आपकी कुल राशि वापस कर दी जाएगी।

वहीं इसे आगे 5-5 सालों के लिए बढ़ाया जा सकता है। हर 5 सालों के बाद मूल राशि लेने या फिर स्कीम को आगे बढ़ाने का ऑप्शन मिलेगा। खाते पर प्राप्त ब्याज का पेमेंट हर महीने आपके पोस्ट ऑफिस खाते में किया जाता है।

5 लाख रुपये जमा करने पर कितनी होगी इनकम

पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में मासिक इनकम होती है। यदि आपने 5 लाख रुपये जमा किए हैं तो इस पर सालाना ब्याज 7.4 फीसदी मिलती है। इस प्रकार मंथली 3,083 रुपये की इनकम होगी। इस प्रकार 12 महीने में इनकम 36 हजार 996 रुपये की होगी।

नए नियम के मुताबिक MIS में दो या फिर 3 साल ज्वाइंट खाता ओपन कर सकते हैं। इस खाते से प्राप्त इनकम सभी लोगों को एक समान रुप से दी जाती है।

ज्वाइंट खाते को किसी भी समय सिंगल खाते में बदला जा सकता है। सिंगल खाते को ज्वाइंट में बदला जा सकता है। इस खाते में कोई भी बदलाव करने के लिए सभी लोगों को एक ज्वाइंट अप्लीकेशन करना होगा।

MIS में मैच्योरिटी 5 सालों की होती है। ये खाता ओपन करने की तारीख से 5 सालों के बाद बंद हो जाती है। इसमें समय से पहले क्लोज किया जा सकता है। बहराल आप पैसा जमा करने की तारीख से एक साल पूरा होने के बाद पैसा निकाल सकते हैं।

यदि आप 1 साल से 3 साल के बीच में पैसा निकालते हैं तो जमा रकम का 2 फीसदी काटकर वापस कर सकते हैं। अगर आप खाता ओपन करने के 3 साल के बाद मैच्योरिटी से पहले पैसा निकालते हैं तो आपकी जमा रकम 1 फीसदी कटकर वापस कर दी जाएगी।